NCF 2005 in hindi | राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा -2005 सरल, संक्षिप्त व महत्वपूर्ण बिंदु [Best Notes]

Spread the love

आमतौर पर राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2005 को लोग समझ नही पाते। आज NCF 2005 in Hindi में मैं आपको आसान भाषा मे ncf 2005 के बारे में बताता हूँ।

In short NCF 2005 के बारे में बात करें कि ncf 2005 क्या है? इसमे क्या कहा गया है? तो Answer यही होगा कि इसमें शिक्षा को बाल केंद्रित बनाने, रटंत प्रणाली से निजात पाने, परीक्षा में सुधार करने और जेंडर, जाति, धर्म आदि आधारों पर होने वाले भेदभाव को समाप्त करने की बात कही गई है।

आइये अब इसके कुछ मुख्य बिंदुओं पर संक्षेप में चर्चा कर लेते हैं। आपको एकदम अच्छे से समझ आ जायेगा कि NCF 2005 आखिर है क्या और वो हमसे क्या चाहता है। जो एनसीएफ 2005 में बात कही गयी है वही बातें CTET Pedagogy में भी लागू होती हैं।

Ncf 2005 in hindi
NCF 2005 in Hindi

NCF 2005 in Hindi | मार्गदर्शक सिद्धांत

एनसीएफ 2005 में अगर डिटेलिंग में जाएंगे तो बहुत बड़ा है,लेकिन उसका निचोड़ और सार यहाँ उसके द्वारा ही बताये गये कुछ बिंदुओं के इर्द गिर्द घूमता है। यदि NCF 2005 को थोड़ा गहराई से समझना है कि उसका उद्देश्य क्या है तो आप नोबेल पुरस्कार विजेता रवींद्रनाथ टैगोर के निबंध ‘सभ्यता और प्रगति’ का यह अंश ज़रूर पढ़ना ही चाहिए।

● ज्ञान को स्कूल के बाहर के जीवन से जोड़ना।

● पढ़ाई रटन्त प्रणाली से मुक्त हो, यह सुनिश्चित करना।

● पाठ्यचर्या का इस तरह संवर्धन कि वह बच्चों को चहुँमुखी विकास के अवसर मुहैया करवाये बजाए इसके कि वह पाठ्य पुस्तक केंद्रित बनकर रह जाये।

● परीक्षा को अपेक्षाकृत अधिक लचीला बनाना और कक्षा की गतिविधियों से जोड़ना।

● एक ऐसी अधिभावी पहचान का विकास जिसमें प्रजातांत्रिक राज्य व्यवस्था के अंतर्गत राष्ट्रीय चिंताएं समाहित हों।

NCF 2005 in hindi के अनुसार ‘शिक्षा के लक्ष्य’

NCF 2005 in hindi के अनुसार शिक्षा के लक्ष्यों को इन 9 बिंदुओं से समझा जा सकता है।

1- NCF 2005 के अनुसार शिक्षा का लक्ष्य बच्चे को बाह्य अनुभवों से जोड़ना है। इसके लिए बच्चे की बात ध्यान से सुनी जानी चाहिए। उसे बोलने का मौका देना चाहिए। उसको भी लगे कि शिक्षक उसकी बात सुन रहा है।

2- NCF 2005 के अनुसार शिक्षा का दूसरा प्रमुख लक्ष्य है- आत्मज्ञान। मतलब यह कि ख़ुद को स्वयं को खोजना।अपनी सच्चाई जानना। इसके लिए विभिन्न तरह के अनुभवों का अवसर देना चाहिए।

3- आप NCF 2005 in hindi for ctet exam पढ़ रहे हैं ।इसका तीसरे लक्ष्य के रूप में साध्य और साधन दोनों के सही होने वाले मुद्दे पर चर्चा की गई है।इसमे मूल्य शिक्षा को अलग से न देने की बात कही गयी है।

4- NCF 2005 in hindi important points में चौथा ये है कि सांस्कृतिक विविधता का सम्मान किया जाना चाहिए । और अन्य तरीकों के प्रति भी सम्मान का भाव भी विकसित करना चाहिए।

5- वैयक्तिक अंतर के महत्व को स्वीकार करने की बात एनसीएफ 2005 करता है। इसमे ये बात बताई गई है कि हर बच्चे में कुछ क्वालिटी होती है। उसे develop करने का मौका देना चाहिए जैसे singing, dancing, art, literature, stories telling, nature loving etc.

6- NCF 2005 [ in hindi for CTET ] ज्ञान के वस्तुनिष्ठ तरीके के साथ-साथ साहित्य और कलात्मक रचनात्मकता को भी मनुष्य के ज्ञानात्मक उपक्रम का हिस्सा मानता है। ये तर्क (logic) के साथ-साथ feelings वाले aspect के importance देने की बात कर रहा है।

7- NCF 2005 in hindi के अनुसार “शिक्षा (Education) को मुक्त करने वाली प्रक्रिया (Liberating Process) के रूप में देखा जाना चाहिए अन्यथा अभी तक जो भी कहा गया है meaningless हो जाएगा। Eduaction की process को सभी तरह के शोषण और अन्याय (injustice), गरीबी, लिंग भेद, जाति तथा साम्प्रदायिक झुकाव से free होना होगा जो हमारे बच्चों को इस प्रक्रिया से वंचित करते हैं।”

8- स्कूल में पठन-पाठन का अच्छा माहौल बनाना और बच्चे में leadership जैसी quality develop करना NCF 2005 in hindi important points में आता है।

9- Ncf 2005 in hindi for ctet exam अपने देेेश पर गर्व करने की भावना विकसित कर हर बच्चे को देेेेश से जुड़ाव महसूस कराने की बात करता है।

Final words about NCF (National Curriculum Framework) 2005 in hindi

दोस्तों आशा करता हूँ आपको राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2005 पर बना ये संक्षिप्त article ज़रूर पसन्द आया होगा। ऐसे ही अच्छे आर्टिकल्स के लिए आप हमारी वेबसाइट hindi.examwinners.com को फॉलो कर लें।

Ncr 2005, ncf 2005 in hindi, ncf 2005 in hindi for ctet exam, ncr 2005 in hindi important points


Spread the love

1 thought on “NCF 2005 in hindi | राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा -2005 सरल, संक्षिप्त व महत्वपूर्ण बिंदु [Best Notes]”

Leave a Comment